MP3 क्या हैं और ये कैसे काम करती हैं? जानिए पूरी विस्तार से हिंदी में। 2019


हम अपने दैनिक जिवन में गाने तो खूब सुनते है गाने का दूसरा नाम mp3 भी होता है। आप लोग जरूर सोचते होंगे आखिर ये mp3 है क्या? mp3 का full form  होता क्या है  तो दोस्तो आज मैं आपको इसी के बारे में बताने वाला हूं की आखिर mp3 है क्या? तो दोस्तो मेरा नाम है उज्ज्वल आप देख रहे हो www.ujjwalguptayt.com तो दोस्तो आज कुछ नया सिख लेते है।

Mp3 फ़ाइल एक्सटेंशन की फ़ाइल आज उपयोग की जाने वाली सबसे अधिक डिस्ट्रिब्यूटेड ऑडियो फ़ाइलों में से एक है। MP3 फ़ाइल Moving Pictures Experts Group (MPEG)द्वारा बनाई गई थी और इसे MPEG-1 या MPEG-2 ऑडियो लेयर 3 से संक्षिप्त किया गया है।
MP3 फ़ाइल क्या है?
MP3 फ़ाइल फॉर्मेट ने 1990 के दशक के अंत में म्‍यूजि़क डिस्ट्रीब्यूशन में क्रांति (की यानी कि बनाई) , जब फाइल-स्वैपिंग सर्विसेस और पहले पोर्टेबल MP3 प्लेयर ने अपनी शुरुआत की। MP3, या MPEG ऑडियो लेयर III, ऑडियो फ़ाइलों को कम्‍प्रेस करने के लिए एक मेथड है। Moving Picture Experts Group का संक्षिप्त नाम MPEG है। इस ग्रुप ने वीडियो डेटा के लिए कम्प्रेशन सिस्‍टम डेवपल की है, जिसमें DVD मुविज़, HDTV ब्रॉडकास्ट और डिजिटल सैटेलाइट सिस्‍टम्‍स के लिए भी शामिल है।
MP3 फ़ाइल एक ऑडियो फ़ाइल है जो फ़ाइल कि साइज़ को कम करने के लिए कम्प्रेशन एल्गोरिदम का उपयोग करती है। इसे “lossy” फॉर्मेट के रूप में जाना जाता है। जिसका मतलब हानिपूर्ण होता हैं, क्योंकि कम्प्रेशन अपरिवर्तनीय है और कम्प्रेशन के दौरान सोर्स का कुछ ओरिजनल डेटा खो जाता है।
MP3 कम्प्रेशन सिस्‍टम का उपयोग करने के दौरान सीडी-क्वालिटी के साउंड को बनाए रखने के दौरान, म्‍युजिक में बाइट्स की संख्या को कम करता है। जब भी आप किसी सॉंग को कम्‍प्रेस करते हैं, तो आप इसकी कुछ क्‍वालिटी खो देंगे, लेकिन कम स्टोरेज स्‍पेस में अधिक म्‍युजि़क फ़ाइलों को ले जाने की कैपेसिटी बढ़ जाती है। छोटी फ़ाइल साइज को आप इंटरनेट से फास्‍ट डाउनलोड कर सकते है।
हालांकि, अभी भी हाई क्‍वालिटी वाले MP3 म्‍युजि़क फ़ाइलों को बनाना अभी भी संभव है। कम्‍प्रेशन सभी प्रकार की फाइलों को कम्‍प्रेस करने की एक आम तकनीक है, चाहे वह ऑडियो, वीडियो या इमेज फाइल हो। जबकि Waveform Audio file (WAV) कि 3 मिनट की lossless फ़ाइल साइज में लगभग 30MB तक हो सकती है, वहीं एक कंम्‍प्रेस MP3 फ़ाइल केवल 3MB कि होगी। यह एक 90% कम्प्रेशन है जिसकी क्‍वालिटी सीडी क्‍वालिटी के करीब होती है!
हालांकि, यह कम्प्रेशन कुछ कमियों के बिना नहीं आता। जबकि आप बहुत अधिक हार्ड ड्राइव स्पेस प्राप्त कर रहे हैं, तो आप lossless फ़ाइल फॉर्मेट से कनवर्ट करते समय साउंड की कुछ क्‍वालिटी खो देते हैं।
मुख्य मुद्दों में से एक बिट रेट के रूप में आता है – मूल रूप से असली ऑडियो इनफॉर्मेशन हर सेकेंड में उत्पादित होती है। उस बिट को kbps (kilobits per second) में मापा जाता है, और बिट रेट जितनी अधिक होगी, उनतीही उसकी क्‍वालिटी बेहतर होगी। MP3 कम्प्रेशन ऑडियो फ़ाइल के उन हिस्सों को हटा देता है जिन्‍हे सुनने के लिए मनुष्‍य के कानों को कड़ी मेहनत करती पडती है। एक एवरेज संगीत श्रोता इन गुणवत्ता की कमी पर आमतौर पर ध्यान नहीं देते।
MP3 म्‍युजिक के लिए एक कम्‍प्रेशन सिस्‍टम है। MP3 का उपयोग करने का लक्ष्य सीडी-क्‍वालिटी वाले साउंड को प्रभावित किए बिना 10 से 14 के फैक्‍टर द्वारा सीडी-क्‍वालिटी के म्‍युजिक को कम्‍प्रेस करना है।
मान ले कि एक औसत गीत लगभग चार मिनट लंबा है। एक सीडी पर, वह गीत लगभग 40 megabytes (MB), की स्‍पेस लेता है, लेकिन MP3 फॉर्मेट में कन्‍वर्ट करने पर वही फाइल केवल 4MB कि हो जाती है। औसतन, 64 MB स्टोरेज स्पेस म्‍युजिक एक घंटे के बराबर होता है। एक संगीत श्रोता जिसके पास 1 GB (लगभग 1,000 MB) स्टोरेज स्पेस वाला MP3 प्लेयर है, तो इसमें लगभग 240 गाने या लगभग 20 सीडी के बराबर के गाने स्‍टोर हो सकते हैं।
हालांकि MP3 शायद सबसे प्रसिद्ध फ़ाइल फॉर्मेट है, फिर भी अन्य फ़ाइल फॉर्मेट हैं जिन्हें MP3 प्लेयर पर प्‍ले किया जा सकता है। जबकि अधिकांश MP3 प्लेयर कई फॉर्मेट को सपोर्ट कर सकते हैं, सभी प्‍लेयर समान फॉर्मेट को सपोर्ट नहीं करते। यहां कुछ फ़ाइल फॉर्मेट दिए गए हैं जिन्हें विभिन्न प्‍लेयर पर प्‍ले किया जा सकता है:
WMA – Windows Media Audio
WAV – Waveform Audio
MIDI – Music Instrument Digital Interface.
ASF – Advanced Streaming Format
VQF – Vector Quantization Format
AAC – Advanced Audio Coding
Ogg Vorbis – A free, open and un-patented music format
ADPCM – Adaptive Differential Pulse Code Modulation
ATRAC – Sony’s Adaptive Transform Acoustic Coding 3

MP3 Bit Rates:

बिट रेट है – MP3 फ़ाइल में प्रति सेकंड बिट्स की संख्या।
MP3 कम्‍प्रेशन फॉर्मेट उन फाइलों को बनाता है जो मूल रिकॉर्डिंग की तरह नहीं लगते – यह एक lossy फॉर्मेट है। फ़ाइल कि साइज को कम करने के लिए, MP3 एन्कोडर्स को ऑडियो इनफॉर्मेशन खोनी होगी। Lossless कम्‍प्रेशन फॉर्मेट किसी भी ऑडियो इनफॉर्मेशन को नष्‍ट नहीं करते। लेकिन इसका यह भी अर्थ है कि lossless कम्‍प्रेशन फाइलें उनके lossy समकक्षों से बड़ी हैं।
आप एन्कोडिंग और कम्प्रेशन प्रोसेस के दौरान एक MP3 फ़ाइल कितनी इनफॉर्मेशन को बनाए रखेंगे या खो देंगे यह चुन सकते हैं। डेटा के उसी सोर्स से विभिन्न साउंड क्‍वालिटी और फ़ाइल साइज के साथ दो अलग-अलग MP3 फ़ाइलों को बनाना संभव है।
अधिकांश MP3 एन्कोडिंग सॉफ़्टवेयर यूजर्स को MP3 फॉर्मेट में कन्वर्ट करते समय बिट रेट को सिलेक्‍ट करने की अनुमति देते है। बिट रेट जितनी कम होगी, फ़ाइल को कम्‍प्रेस करते समय एन्कोडर उतनी अधिक जानकारी को खो देगा। बिट रेट 96 से 320 kilobytes per second (Kbps) तक हो सकती हैं। 128 Kbps का रेट वह होता हैं, जो आप रेडियो पर सुनते हैं। कई म्यूजिक साइट्स और ब्लॉग, लोगों को 160 Kbps या उससे अधिक की बीट रेट का उपयोग करने का आग्रह करते हैं, यदि वे MP3 फ़ाइल को सीडी के समान साउंड क्‍वालिटी चाहते हैं।

How To Open An MP3 File:

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, MP3 सबसे व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला ऑडियो फ़ाइल फॉर्मेट है और इसकी वजह से लगभग सभी ऑडियो प्लेबैक एप्लिकेशन MP3 फाइलें ओपन करने में सक्षम हैं-संभवतः यहां तक कि आपके ई-रीडर भी।
विंडोज और मैकओएस यूजर्स किसी थर्ड पार्टी के सॉफ़्टवेयर को इंस्टॉल किए बिना MP3 फ़ाइलों को प्‍ले कर सकते हैं। विंडोज 10 में, MP3 को डिफ़ॉल्ट रूप से Windows Media Player में ओपन किया जाता है; तो मैकओएस में, वे iTunes में प्‍ले किए जाते हैं। आपको केवल MP3 फ़ाइल पर डबल-क्लिक करना है जिसे आप सुनना चाहते हैं और डिफ़ॉल्ट रूप से, आपका ऑडियो प्लेयर उस फ़ाइल को ओपन कर देगा और प्‍ले शुरू कर देगा।
निष्कर्ष
तो दोस्तो मेरी पूरी आसा है की आप समझ गए होंगे कि MP3 क्या हैं और ये कैसे काम करती हैं। अगर आपका कोई सुझाव हो तो नीचे comment जरूर  करना में आपका replay जरूर दूंगा।

Post a Comment

0 Comments